मर्जरासना (Marjrasana)

मर्जरासना (Marjrasana)

मर्जरासना (Marjrasana)
(cowpose-catpose)

विधिः
१.      दोनों हाथों की हथेलियों एवं घुटनों को भूमि पर टिकाते हुए स्थिति लीजिये।

२.      अब श्वास अन्दर भरकर छाती और सिर को ऊपर उठाये ,कमर निचे की ओर झुकी हुई हो। थोड़ी देर इस स्थिति में रहकर श्वास बाहर छोड़ते हुए पीठ को ऊपर उठाये तथा सर को निचे झुकायें।

लाभ:
गर्दन के दर्द में राहत मिलती है और कटी पीड़ा ओर गैस ,कब्ज एवं फेफड़ो को मजबूत करता है और गर्भाशय को बाहर निकलने जैसो रोगो को दूर करता है।

अपनी उम्र को बढ़ाने ओर श्वासोछ्वास की मात्रा को घटाने के लिए करिये..धारणा शक्ति मुद्रा (Dharna Shakti Mudra)

अपनी उम्र को बढ़ाने ओर श्वासोछ्वास की मात्रा को घटाने के लिए करिये..धारणा शक्ति मुद्रा (Dharna Shakti Mudra)

विधिः

यह मुद्रा श्वास को अधिक समय तक फेफड़ो में रोकनेवाली मुद्रा है। जब पूरक करे तब अंगूठे को ऊपर वाले भाग १ अंगुली से दबाएं इससे आंतरिक कुम्भक ज्यादा समय तक होगा।अंगूठे के मध्य भाग में यदि इस प्रकार दबाव दिया जाये तो कुम्भक और  अधिक समय तक कर सकेंगे। अंगूठे के आखरी भाग में यानि के मूल भाग में यदि इस तरह दबाव दिया जाये तो श्वास को बहुत अधिक तक भीतर सरलता से रोका जा सकता है।
लाभ: फेफड़ो में ज्यादा समय तक श्वास रोकने से प्राण वायु अधिक मात्रा में मिलता है और शरीर को अधिक बल मिलता है और श्वासोछ्वास की मात्रा को घटाया जा सकता है,जिससे उम्र में इजाफा होता है।